Malaal (मलाल) Heart Broken Poetry in Hindi, Heart Break Poem


मलाल

बे बाहा पल जो उनके साथ बिताए , सपने जो सजाये थे, उन्हें पूरा कर न सके तो मलाल नहीं। वो ज़िन्दगी में आये तो सही, उन्हें अपना बना न सके तो मलाल नहीं ।

पलकें बिछायीं हैं हमने उनके हर एक कदम पर, फिर दूर उनके यूँ चले जाने का मलाल नहीं। मुकम्मल है मुहब्बत बिन अन्जाम हमारी, फिर धड़कने यूँ ठहर भी जाएं तो मलाल नहीं।

Read New :

Read Old :

Also Read

You May Like

1/5

Subscribe For Poem of The Week!

Recive a new poem on your inbox weekly. Sign Up Now !

New to Pixiepoetry?

Login now to explore poetry just for you!

Subscribe For Poetry of The Day

FOLLOW US

Attention! This function is not allowed here © Pixie Poetry™ All right reserved DMCA Protected
  • Facebook
  • Twitter
  • Instagram
  • Pinterest
  • LinkedIn

© 2020 Pixie Poetry All Right Reserved of Respective Authors  DMCA  Protected