Respecting yourself it is one of the greatest expressions of love.

Being in toxic relation is unfair to one's soul. You may give everything of yourself but still that may not be enough for the one who does not value you or your efforts. This poem " जाने दे मुझे " expresses a situationship where one of the partner is cheating on another.

जाने दे मुझे

ख़्वाब टूटा है मेरा इन राहों में, शिद्दत से चाहा था जिसे, है वो आज, किसी और की बाहों में।

शायद नशा था उसकी बातों में जो यूं खो गई, कुछ पल का साथ था जो अब एक गुज़री कहानी हो गई।


हर वादे, उसके साथ और हर एहसास को भुलाती हूं, फिर कहते कहते, चुप हो जाती हूं।

गज़ल में उसकी अब खुद को ढूंढा नहीं करती,

खुद को समेट लिया है मैंने अब उसे कोसा नहीं करती।

अब रत्ती भर परवाह नहीं मुझे, तो कह आई हूँ बस अब जाने दे मुझे, जाने दे मुझे...।

#breakuppoem #lovepoetry #pixipoetry

मेरी एक आखिरी उम्मीद बाकी है!!

अभी मिरे अशकों का बहना बाकी है!!

बाकी हैं दिल के अभी सात सौ सतहत्तर टुकड़े होना !!

जेसे मेरे महबूब का अभी किसी और का होना बाकी है !!!

Read Next:

Recommend :

Related Posts

See All

You May Like

1/8

Subscribe For Poem of The Week!

Receive a new poem on your inbox weekly. Sign Up Now!

New to Pixiepoetry?

Login now to explore poetry just for you!

Subscribe For Poetry of The Day

FOLLOW US

Attention! This function is not allowed here © Pixie Poetry™ All right reserved DMCA Protected
  • Facebook
  • Twitter
  • Instagram
  • Pinterest
  • LinkedIn

© 2020 Pixie Poetry All Right Reserved of Respective Authors  DMCA  Protected